प्रयाग आके गंगा नहाना -हिंदी लिरिक्स दुर्गा भजन

Prayag Aake Ganga Nahana

#BhaktiGaane #DurgaSong #DevotionalSongs

Title : Prayag Aake Ganga Nahana
Album Name: Prayag Aake Ganga Nahana
Lyrics Written By: Devendra Pathak Ji
Singer Name: Devendra Pathak Ji
Publishing Year: 2020
Music Lenth:4:29
Size: 6 MB

Songs Info :There are very beautiful bhajans that will hear you become disturbed, many such Bhajans are available in Bhaktigaane, listen to yourself and also tell others and share them together to help us

प्रयाग आके गंगा नहाना अपना तन मन पावन कर जाना,
गंगा माँ में डुबकी लगाना अपना तन मन पावन कर जाना,

माँ गंगा को अपने तू मन में वसाओं सभी पाप धूल जाए दीपक जलाओ,
श्रद्धा से अपने तुम सिर को जुकाओ हो कामना पूरी तुम गंगा नेहलाओ,

फिर गंगा माँ से अर्जी लगाना,अपना तन मन पावन कर जाना,

ये तीर्थो के राजा प्राग की नगरी,
सभी गंगा जल से भरे याहा गगरी,
ये कुंभ का मेला यहाँ भक्त आते ,
माँ गंगा की जय बोल संगम नहलाते,
आ कर अपना जीवन सफल बनाना ,
अपना तन मन पावन कर जाना,

कुंभ में साधू संतो का अध्भुत नजारा,
लागे जैसे तारो बीच चाँद हमारा,
दुनिया के सुख में ये भी सुख है प्यारा,
देविंदर को गुरु ब्रिज मोहन का सहारा,
माँ भगतो की आस पुराना,
कैलाश की भी आस पुराना
अपना तन मन पावन कर जाना,

Download-Button1-300x157


Pleas Like And Share This @ Your Facebook Wall We Need Your Support To Grown UP | For Supporting Just Do LIKE | SHARE | COMMENT ...


Leave a Reply