आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स

आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स

Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai Durga Hindi Bhajan Lyrics



Singer By: Rakesh Kala
Lyrics By : Rakesh Chandan

आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स Sung By : Rakesh Kala This version of song is written by Rakesh Chandan आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स Publisher : Brijwani Cassettes It is written very beautifully, if you like this song, then share it with others, share it with your friends or Facebook or Whatsapp and give us support.

Download :MP3 | MP4 | M4R


आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स -HD Video


Songs Info : बहुत ही सुन्दर गाना हैं आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स | आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स जिसे लिखा हैं Rakesh Chandan और गया हैं Rakesh Kala बहुत ही सुन्दर तरह से लिखा गया हैं अगर ये गाना आपको अच्छा लगा तो दुसरो के साथ भी शेयर करे अपने दोस्तों या Facebook या Whatsapp पर शेयर करे और हमें सहयोग प्रदान करे .



आज शुक्रवार है, माँ अम्बे का वार है,
ये सच्चा दरबार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है…………

आज शुक्रवार है, माँ अम्बे का वार है,
ये सच्चा दरबार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है,
चण्ड मुंड ने स्वर्ग में आके, जब उत्पात मचाया है,
जब उत्पात मचाया है,
चण्ड मुंड ने स्वर्ग में आके, जब उत्पात मचाया है,
जब उत्पात मचाया है,
देवों की विनती पे माँ ने रूप विराट बनाया है,
रूप विराट बनाया है,
चण्ड मुण्ड पर वार है इनका फिर संघार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है………..

आज शुक्रवार है, माँ अम्बे का वार है,
ये सच्चा दरबार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है,आज शुक्रवार है,

शुम्ब निशुंभ को मारने वाली, महिषासुर की घाटी है,
महिषासुर की घाटी है,
महाकाल के संग विराजे, महाकाली कहलाती है,
महाकाली कहलाती है,
हाथों में कटार है, खप्पर भी ये धार है ,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है………..

आज शुक्रवार है, माँ अम्बे का वार है,
ये सच्चा दरबार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है,आज शुक्रवार है,

कोई कहता दुर्गा तुमको, कोई कहता काली है,
कोई कहता काली है,
पिंडी रूप में वैष्णो मैया, दर्शन देने वाली है,
दर्शन देने वाली है,
करती बेड़ा पार करती माँ उद्धार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है………

आज शुक्रवार है, माँ अम्बे का वार है,
ये सच्चा दरबार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है,आज शुक्रवार है……..

नवरातों में नौ रूपों में, सबके घर माँ आती है,
सबके घर माँ आती है,
कंजक रूप में हलवा चने का, मैया भोग लगती है,
मैया भोग लगती है,
शक्ति का अवतार है, होती जय जयकार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया, सिंह पे असवार है,
आज शुक्रवार है, माँ अम्बे का वार है,
ये सच्चा दरबार है,
लाल चुनर ओढ़े है मैया,
सिंह पे असवार है,आज शुक्रवार है………

Aaj Shukravaar Hai, Maan Ambe Ka Vaar Hai,
Ye Sachcha Darabaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai………

Aaj Shukravaar Hai, Maan Ambe Ka Vaar Hai,
Ye Sachcha Darabaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai,
Chand Mund Ne Svarg Mein Aake, Jab Utpaat Machaaya Hai,
Jab Utpaat Machaaya Hai,
Chand Mund Ne Svarg Mein Aake, Jab Utpaat Machaaya Hai,
Jab Utpaat Machaaya Hai,
Devon Ki Vinati Pe Maan Ne Rup Viraat Banaaya Hai,
Rup Viraat Banaaya Hai,
Chand Mund Par Vaar Hai Inaka Phir Sanghaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai……….

Aaj Shukravaar Hai, Maan Ambe Ka Vaar Hai,
Ye Sachcha Darabaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai,aaj Shukravaar Hai………

Shumb Nishumbh Ko Maarane Vaali, Mahishaasur Ki Ghaati Hai,
Mahishaasur Ki Ghaati Hai,
Mahaakaal Ke Sang Viraaje, Mahaakaali Kahalaati Hai,
Mahaakaali Kahalaati Hai,
Haathon Mein Kataar Hai, Khappar Bhi Ye Dhaar Hai ,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai………..

Aaj Shukravaar Hai, Maan Ambe Ka Vaar Hai,
Ye Sachcha Darabaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai,aaj Shukravaar Hai……..

Koi Kahata Durga Tumako, Koi Kahata Kaali Hai,
Koi Kahata Kaali Hai,
Pindi Rup Mein Vaishno Maiya, Darshan Dene Vaali Hai,
Darshan Dene Vaali Hai,
Karati Beda Paar Karati Maan Uddhaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai,

Aaj Shukravaar Hai, Maan Ambe Ka Vaar Hai,
Ye Sachcha Darabaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai,aaj Shukravaar Hai………

Navaraaton Mein Nau Rupon Mein, Sabake Ghar Maan Aati Hai,
Sabake Ghar Maan Aati Hai,
Kanjak Rup Mein Halava Chane Ka, Maiya Bhog Lagati Hai,
Maiya Bhog Lagati Hai,
Shakti Ka Avataar Hai, Hoti Jay Jayakaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya, Sinh Pe Asavaar Hai,
Aaj Shukravaar Hai, Maan Ambe Ka Vaar Hai,
Ye Sachcha Darabaar Hai,
Laal Chunar Odhe Hai Maiya,
Sinh Pe Asavaar Hai,aaj Shukravaar Hai……..

आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स -HD Video

For Free Download Click Here आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स Download

आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है Aaj Sukrawar Hai Maa Ambe Ka War Hai दुर्गा हिंदी भजन लिरिक्स

Categories


Pleas Like And Share This @ Your Facebook Wall We Need Your Support To Grown UP | For Supporting Just Do LIKE | SHARE | COMMENT ...


Leave a Reply