Jis Ghar Ke Aangan Mein Teri Jyot Nirali Hai जिस घर के आँगन में तेरी ज्योत निराली है Durga Bhajan Lyrics Lakhbir Singh Lakkha

119mata#BHAKTIGAANE #NAVRATRISONG
#MAADURGA #MAADURGABHAJAN
#MATARANISONG #MALALAGAHAI
#AMBEKIDUARIYA
Mp3 Song/Lyrics Name:
Album Name : Maa Durga Bhajan
Published Year : 2011
File Size9:MB Time Duration:006:40



जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

हर रोज वह होली
हर रोज वह होली
हर रोज दिवाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

हर रोज वह होली
हर रोज वह होली
हर रोज दिवाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

हर रोज वह होली
हर रोज वह होली
हर रोज दिवाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

जिस घर में मैया
तेरा नाम चहकता है
उस घर का हर कोना
खुसियो से महकता है

जिस घर में मैया
तेरा नाम चहकता है
उस घर का हर कोना
खुसियो से महकता है

उस घर पे मैहर करती
उस घर पे मैहर करती
तू मेहरो वाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

दारिद्रा भाग जाते
सुख भाग्य अटल करके
उस घर में नहीं आते
दुःख कभी भूल करके

दारिद्रा भाग जाते
सुख भाग्य अटल करके
उस घर में नहीं आते
दुःख कभी भूल करके

शेरो पे यहाँ रहती
शेरो पे जहा रहती
माँ शेरोवाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

हर रोज वह होली
हर रोज वह होली
हर रोज दिवाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

कैसे भी अँधेरे हो
ये ज्योत मिट्टी है
विश्वाश जो करते है
उन्हें राह दिखती है

कैसे भी अँधेरे हो
ये ज्योत मिट्टी है
विश्वाश जो करते है
उन्हें राह दिखती है

पवन ज्योति माँ की
पवन ज्योति माँ की
जिसने भी जग ली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

बेधक कहे लक्खा
ममता के चुन मोती
घर मंदिर हो जाये
श्रद्धा से जग ज्योति

बेधक कहे लक्खा
ममता के चुन मोती
घर मंदिर हो जाये
श्रद्धा से जग ज्योति

ममता से भरेगी माँ
ममता से भरेगी माँ
तेरी झोली खाली हर

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

हर रोज वह होली
हर रोज वह होली
हर रोज दिवाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है
जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

हर रोज वह होली
हर रोज दिवाली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

जिस घर के आँगन में
तेरी ज्योत निराली है

Download-Button1-300x157

Categories


Pleas Like And Share This @ Your Facebook Wall We Need Your Support To Grown UP | For Supporting Just Do LIKE | SHARE | COMMENT ...


Leave a Reply