कान्हा प्रेम की डोर Kanha Prem Ki Dor Lyrics Sing By Gagandeep Singh & Urmila Raj

कान्हा प्रेम की डोर Kanha Prem Ki Dor

#BhaktiGaane #LordKrishnaSong #DevotionalSongs


कान्हा प्रेम की डोर Kanha Prem Ki Dor Lyrics Sing By Gagandeep Singh &Amp; Urmila Raj

Title : कान्हा प्रेम की डोर Kanha Prem Ki Dor
Album Name: Kanha Prem Ki Dor
Lyrics Written By: Amit Faijabadi, Kabir
Singer Name: Gagandeep Singh & Urmila Raj
Publishing Year: 2019
Music Lenth: 4:12
Size: 6 MB

 

Songs Info : बहुत ही सुन्दर भजन हैं जिसे सुनकर आप भाव विभोर हो जायेंगे ऐसे ही बहुत सारे भजनो का संग्रह हैं भक्तिगाने में मिलेगा , खुद भी सुने और दुसरो को भी सुनाये और साथ में शेयर कर हमें सहयोग प्रदान करे

कान्हा प्रेम की डोर मोहे खींच जोर तेरे नैनो ने मुझपे जादू किया,
तुझसे है वादा हां बिन तेरे राधा ये श्याम है आधा ओ राधिका,

राधा ना होती वृद्धावन न होता तो कैसे हम रास रचाते,
राधा की पायल न भजति तो बोलो ऊँगली पर किसको नचाते,
कान्हा कैसा ये कमाल है हुआ हाल बेहाल तेरे शृंगार ने मुझको पागल किया,
तुम पे है वादा बिन तेरे राधा ये श्याम है आधा ओ राधिका,

राधा न होती तो कुञ्ज गली भी ऐसी निराली न होती,
राधे के नाम से महके है उपवन हरयाली ऐसी न होती,
कान्हा तेरी मुस्कान पे प्यारी बंसी की तान उसकी बांकी अदाओ ने घ्याल किया,
तुम पे है वादा बिन तेरे राधा ये श्याम है आधा ओ राधिका,

राधा न होती ये स्वान ना होता तो फिर किसको झूला रिजाते,
अमित गगन बैठे चरणों में तेरे तो भजनो से किसको रिजाते,

कान्हा घुंगरले बाल तेरी टेडी मेडी चाल मैंने मोहन को तन मन ये अर्पण किया,
तुम पे है वादा बिन तेरे राधा ये श्याम है आधा ओ राधिका,

Download-Button1-300X157

Categories


Pleas Like And Share This @ Your Facebook Wall We Need Your Support To Grown UP | For Supporting Just Do LIKE | SHARE | COMMENT ...


Leave a Reply