Mukut Sir Mor Ka Mere Chit Chor Ka Krisna Bhajan Hindi Lyrics मुकुट सिर मोर का मेरे चित चोर का Prem Mehra

sddefault#BHAKTIGAANE#MukutSirMorKaMereChitChorKa#
#MAADURGA #MAADURGABHAJAN
Lyrics Name:मुकुट सिर मोर का मेरे चित चोर का
Album Name:#KrisnaBhajan#
Published Year:2015
Singer Name:#PremMehra#
File Size9:MB
Time Duration:6:50

 

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का ।
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

आजा के भरलु तुझे अपनी बाहो में
आजा छिपा लु तुझे अपनी निगाहो में

दीवानों ने विचार के कहा ये पुकार के
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

रास बिहारी नहीं तुलना तुम्हारी
तुमसा ना देखा कोई पहले अगाडी

के नुंरऐ वार के के नजरे उतार के
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

प्रेम लजाये तेरी बाँकी अदाओं पर
फुले घटाए तेरी तिरछी निगाहो पर

की सो चाँद वार के दीवाने हार के
दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

दिवानों ने विचार के, कहा यूं पुकार के ॥3॥

Download-Button1-300x157

Categories


Pleas Like And Share This @ Your Facebook Wall We Need Your Support To Grown UP | For Supporting Just Do LIKE | SHARE | COMMENT ...


Leave a Reply