आ रहा है सावन का आखिरी सोमवार में एेसे करें शिव जी की पूजा

 

सावन माह में शिव पूजा का महत्व होता है। अब तक आपने जाना कि इस दौरान पूजा में किन बातों को करने से लाभ होता है। अब जाने कि क्या नहीं करना चाहिए।

एेसे करें भगवान शिव की पूजा

सावन माह में प्रतिदिन पूजा शुरू करने से पहले एक तांबे का पात्र, दूध, अर्पित किए जाने वाले वस्त्र, चावल, अष्टगंध, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, चंदन, धतूरा, अकौड़े के फूल, बिल्वपत्र, जनेऊ, फल, मिठाई, नारियल, पंचामृत, आैर पान आदि एकत्रित कर लें। इसके बाद हाथ में जल, फूल और चावल लेकर देवता का आह्वान करते हुए अपने नाम और मनोकामना के साथ पूजा का संकल्प लें। हाथों में लिए गए जल को पृथ्वी पर छोड़ दें। संकल्प लेने के बाद ‘ऊं साम्ब शिवाय नम:’ आव्हानयामि स्थापयामि का जाप करते हुए चावल अर्पित करें। इसके बाद पंचामृत से स्नान कराकर शुद्ध जल से स्नान कराएं। अब वस्त्र अर्पित कर चंदन आैर अष्टगंध आदि लगाएं। अंत में बिल्व पत्र अर्पित कर धूप और दीप दिखाएं। इसके बाद ‘ऊं नम: शिवाय’ का जाप करने के बाद शिव आरती करें।

श्री रूद्रम् लघुन्यासम    श्री रुद्रम् चमकम्      श्री रुद्र नमाकम     शिव ताण्डव स्तोत्रम्       शिव अमृतवाणी

 


इन बातों को करने से रखें परहेज

इस दौरान पूजा में इन सामान्य गलतियों को करने से बचें। याद रखें कि शिवलिंग से पूर्व दिशा की ओर मुंह करके नहीं बैठना चाहिए। शिवलिंग से उत्तर दिशा में भी न बैठें क्योंकि इस दिशा में पत्नी शक्ति स्वरूपा माता पार्वती का स्थान होता है। शिव पूजा में शिवलिंग से पश्चिम दिशा में भी नहीं बैठा जाता है क्योंकि इस दिशा में शिव जी की पीठ होती है, जिसके चलते भक्तों को देवपूजा करने से शुभ फल नहीं मिल पाते। अत: केवल दक्षिण दिशा में ही मुख करके बैठें। शिव जी या शिवलिंग पर कभी भी खंडित आैर कटे फटे बिल्व पत्र ना अर्पित करें।


श्री रुद्री पाठ Rudri Path Lyrics Complete Rudri Path Lyrics | Vedic Chanting 21 Brahmins

शिव ताण्डव स्तोत्रम् Shiva Tandava Stotram Lord Shiva Powerfull Mantra Chants Lyrics And Songs

ॐ त्रयम्बकं यजामहे || Om Trayambakam Yajamahe Shiva Mahamrityunjaya Mantra Full Hindi Lyrics

ये हैं कुछ विशेष अभिषेक 

शिव जी का अभिषेक करने का उनकी पूजा में विशेष महत्व होता है। ये अभिषेक कर्इ पदार्थों से किये जाते हैं आैर उनका अलग अलग फल प्राप्त होता है। जैसे दूध से शिव जी का अभिषेक करने पर परिवार में कलह, मानसिक अवसाद और अनचाहे दुःख व कष्टों से मुक्ति मिलती है। शिव सहस्रनाम का पाठ करते हुए घी का अभिषेक करने से वंश वृद्धि का आर्शिवाद मिलता है। इत्र से शिव जी का अभिषेक करने से भौतिक सुखों की प्राप्ति होती है। जल से अभिषेक करने पर मानसिक शांति आैर गंगा जल से अभिषेक से चारो पुरूषार्थ की प्राप्ति होती है। शहद के अभिषेक से रोग मुक्ति होती है। गन्ने के रस से अभिषेक करने से आर्थिक समृद्धि प्राप्त होती है। जबकि सरसों के तेल से अभिषेक करने से शत्रुओं का नाश होता है, रूके हुए काम बनते हैं आैर मान-सम्मान में वृद्धि होती है।

शिवअष्टकम् Shivashtakam mantra Lyrics

कालभैरवाष्टकम् | KaalBhairav Ashtakam Hindi Lyrics Lord Shiva Stuti



Pleas Like And Share This @ Your Facebook Wall We Need Your Support To Grown UP | For Supporting Just Do LIKE | SHARE | COMMENT ...


Leave a Reply

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: