Raam Bhakat Le Chala Re Ram Ki Nishani Ram Bhajan Hindi Lyrics राम भक्त ले चला रे राम की निशानी Ravindra Kumar

Neanderthal-Man-And-Hominid-Species-In-Ramayana7-Png#BHAKTIGAANE#RaamBhakatLeChalaReRamKiNishani#
Lyrics Name: राम भक्त ले चला रे राम की निशानी
Album Name:#RAMBHAJAN#
Published Year:2010
File Size:6:Mb
Time Duration:4:6
Singer Name:#RavindraKumar#


View English Lyrics

प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही

राम भक्त ले चला रे राम की निशानी,
शीश पर खड़ाऊँ, अँखिओं में पानी ।

शीश खड़ाऊ ले चला ऐसे,
राम सिया जी संग हो जैसे ।
अब इनकी छाव में रहेगी राजधानी,
राम भक्त ले चला रे राम की निशानी ॥

पल छीन लागे सदिओं जैसे,
चौदह वरष कटेंगे कैसे ।
जाने समय क्या खेल रचेगा,
कौन मरेगा कौन बचेगा ।
कब रे मिलन के फूल खिलेंगे,
नदिया के दो फूल मिलेनेगे ।

जी करता है यही बस जाए,
हिल मिल चौदह वरष बिताएं
राम बिन कठिन है इक घडी बितानी,
राम भक्त ले चला रे राम की निशानी ॥

तन मन बचन, उमनग अनुरागा,
धीर धुरंधर धीरज त्यागा ।
भावना में बह चले धीर वीर ज्ञानी,
राम भक्त ले चला रे राम की निशानी ॥

Raam Bhakat Le Chala Re Ram Ki Nishani Ram Bhajan Hindi Lyrics राम भक्त ले चला रे राम की निशानी Ravindra Kumar

Categories


Pleas Like And Share This @ Your Facebook Wall We Need Your Support To Grown UP | For Supporting Just Do LIKE | SHARE | COMMENT ...


Leave a Reply