राम को देख कर के जनक नंदिनी राम भजन Ram Ko Dekh Kar Ke Janak Nandini Ram Hindi Bhajan Lyrics

Siya Ram
Mp3 Song/Lyrics Name : राम को देख कर के जनक नंदिनी,बाग़ में वो खड़ी की खड़ी रह गयी,राम देखे सिया को |Ram Ko Dekh Kar Janak Nandini,Baag Mein Vo Khadi Ki Khadi Rah Gayi,Ram Dekhe Siya Ko,Siya Ram Ko |
SingerDiwakar Diwivedi
Album Name : Banega Ab Mandir
Published Year : 2012
File Size : 8 Mb Time Duration : 6:00 Min



View In English Lyrics

राम को देख कर के जनक नंदिनी,
राम को देख कर के जनक नंदिनी,
बाग़ में वो खड़ी की खड़ी रह गयी ।
राम देखे सिया को सिया राम को,
राम देखे सिया को सिया राम को,
चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी ॥

राम देखे सिया को सिया राम को,
राम को देख कर के जनक नंदिनी,

यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग,
ले धनुष दानवो को लगे काटने
यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग,
ले धनुष दानवो को लगे काटने
एक ही बाण में,एक ही बाण में ताड़का राक्षसी,
एक ही बाण में ताड़का राक्षसी,
गिर जमी पर पड़ी की पड़ी रह गयी ॥

राम को देख कर के जनक नंदिनी,
राम को देख कर के जनक नंदिनी,

राम को मन के मंदिर में अस्थान दे
कर लगी सोचने मन में यह जानकी
राम को मन के मंदिर में अस्थान दे
कर लगी सोचने मन में यह जानकी
तोड़ पाएंगे,तोड़ पाएंगे कैसे यह धनुष कुंवर,
तोड़ पाएंगे कैसे यह धनुष कुंवर,
मन में चिंता बड़ी की बड़ी रह गयी ॥

राम को देख कर के जनक नंदिनी,
राम को देख कर के जनक नंदिनी,

विश्व के सारे राजा जनकपुर में जब,
शिव धनुष तोड़ पाने में असफल हुए
विश्व के सारे राजा जनकपुर में जब,
शिव धनुष तोड़ पाने में असफल हुए,
तब श्री राम ने,तब श्री राम ने तोडा को दंड को,
सब की आँखे बड़ी की बड़ी रह गयी ॥

राम को देख कर के जनक नंदिनी,
राम को देख कर के जनक नंदिनी,

तीन दिन तक तपस्या की रघुवीर ने,
सिंधु जाने का रास्ता न उनको दिया
तीन दिन तक तपस्या की रघुवीर ने,
सिंधु जाने का रास्ता न उनको दिया |
ले धनुष राम ने,ले धनुष राम जी ने की जब गर्जना,
उसकी लहरे रुकी की रह गयी ॥

राम देखे सिया को सिया राम को,
राम देखे सिया को सिया राम को,
चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी
चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी
राम को देख कर के जनक नंदिनी,
राम को देख कर के जनक नंदिनी ॥


Download-Button1-300X157

Leave a Reply