श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं Shyam Sunder Sa Koi Bhi Sunder Nhi Lyrics Sing By Ram Kumar Lakkha

श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं Shyam Sunder Sa Koi Bhi Sunder Nhi

#BhaktiGaane #LordKrishnaSong #DevotionalSongs

श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं Shyam Sunder Sa Koi Bhi Sunder Nhi Lyrics Sing By Ram Kumar Lakkha

Title : श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं Shyam Sunder Sa Koi Bhi Sunder Nhi
Album Name:Shyam Sunder Sa Sunder
Lyrics Written By:Kavi Bijan
Singer Name: Ram Kumar Lakkha
Publishing Year: 2019
Music Lenth: 7:47
Size: 11 MB

Songs Info : बहुत ही सुन्दर भजन हैं जिसे सुनकर आप भाव विभोर हो जायेंगे ऐसे ही बहुत सारे भजनो का संग्रह हैं भक्तिगाने में मिलेगा , खुद भी सुने और दुसरो को भी सुनाये और साथ में शेयर कर हमें सहयोग प्रदान करे

 

जिसकी आँखों से गहरा समुंदर नहीं,
श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं,

उड़े जाती निराली घुंघराली लटा,
जैसे भादो के सूरज की काली घटा,
मेरे बांके बिहारी की न्यारी छटा,
अति प्यारी छटा मत वरि छटा,
वनवारी सा देखा न मुंदर कही,
जिसकी आँखों से गहरा समुन्दर नहीं,
श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं,

नैन कजरारे अधरों पे रस पान है,
दांत मोती से फूलो सी मुश्कान है,
बोल मीठे लगे जैसे मिष्ठान है
ये तो पहचान है वो तो धन वान है,
ऐसा रंग दे सके रंग चुकंदर नहीं,
जिसकी आँखों से गहरा समुन्दर नहीं,
श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं,

जिसके चेहरे पे विखरा गज़ब नूर है,
मुख मंडल पे लाली माँ भरपूर है,
रूप देखा तो लागे कोहिनूर है,
बांका दस्तूर है हरी मगरूर है,
मेरे कान्हा सा दूजा मुजनदर नहीं,
जिसकी आँखों से गहरा समुन्दर नहीं,
श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं,

नजरे हटती नहीं सोहनी सूरत है वो,
मन को मोह ले जो मन मोहनी मूरत है वो,
सब ने बोलै बड़ा खूबसूरत है वो,
हां जरूत है वो सुबह महूरत है वो,
अपना करले बिजन जैसा हुनर नहीं,
जिसकी आँखों से गहरा समुन्दर नहीं,
श्याम सूंदर सा कोई भी सूंदर नहीं,

Download-Button1-300X157

Leave a Reply